हाईकोर्ट इलाहाबाद ने प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा व बेसिक शिक्षा परिषद से हलफनामा मांगते हुए पूछा है कि कोर्ट की रोक के बावजूद सहायक अध्यापकों से शिक्षण के अतिरिक्त बीएलओ का काम क्यों लिया जा रहा है - NATION WATCH - बदलते भारत की आवाज़ (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

कांग्रेस की सोच विकास विरोधी, बाड़मेर में बोले पीएम मोदी*मुंबई: 2019 अंडरवर्ल्ड जबरन वसूली कॉल मामले में दाऊद के भतीजे सहित 3 बरी*कौन क्या खा रहा इस पर राजनीति हो रही है: RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी*कोयंबटूर: चुनाव प्रचार के दौरान NDA-INDIA ब्लॉक के कार्यकर्ताओं में झड़प, सात घायल*बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट के आरोपियों को हमने 2 घंटे में गिरफ्तार कर लिया: ममता बनर्जी*मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर हिडमा की तलाश में जुटी IB और NIA टीम*'इस बार यूपी की सभी 80 लोकसभा सीट जीतेंगे', मुरादाबाद में बोले अमित शाह*मनीष सिसोदिया ने अदालत में लगाई अर्जी, चुनाव प्रचार के लिए मांगी अंतरिम जमानत || [Nation Watch - Magazine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Friday, July 6, 2018

हाईकोर्ट इलाहाबाद ने प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा व बेसिक शिक्षा परिषद से हलफनामा मांगते हुए पूछा है कि कोर्ट की रोक के बावजूद सहायक अध्यापकों से शिक्षण के अतिरिक्त बीएलओ का काम क्यों लिया जा रहा है


आज की सत्ता ब्यूरो इलाहाबाद : हाईकोर्ट इलाहाबाद ने प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा व बेसिक शिक्षा परिषद से हलफनामा मांगते हुए पूछा है कि कोर्ट की रोक के बावजूद सहायक अध्यापकों से शिक्षण के अतिरिक्त बीएलओ का काम क्यों लिया जा रहा है। कोर्ट के उप्र प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ बांदा केस के फैसले का पालन न करने पर यह स्पष्टीकरण मांगा है। यह भी पूछा है कि इस आदेश को लागू करने के लिए अब तक क्या कदम उठाए गए हैं। पूर्व में दिए गए स्पष्ट आदेश का पालन न होने से नाराज कोर्ट ने पूछा कि क्यों न इसे कोर्ट की अवमानना माना जाए। याचिका पर अगली सुनवाई 11 जुलाई को होगी। यह आदेश जस्टिस एसपी केशरवानी ने मनोज कुमार व तीन अन्य सहायक अध्यापकों की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है।याचिका में कहा गया है कि, अध्यापकों से बूथ लेबल ऑफिसर का काम लिया जा रहा है, जो अनिवार्य शिक्षा कानून, हाई कोर्ट एवं सुप्रीम कोर्ट के फैसलों का खुला उल्लंघन है। याचियों का कहना है कि उन्हें वोटर लिस्ट तैयार करने के कामों में न लगाया जाए। कोर्ट ने प्राइमरी स्कूल अध्यापकों से बीएलओ का काम लेने पर रोक लगा रखी है। कोर्ट की रोक के बावजूद उन्हें गैर शैक्षिक कार्य के लिए भेजा जा रहा है।

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->