लखनऊ :अपर प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा डॉ. प्रभात कुमार ने बैठक में एससीईआरटी के निदेशक संजय सिन्हा से पूछा कि सरकारी प्राइमरी स्कूल निजी से बेहतर क्यों नहीं है - NATION WATCH - बदलते भारत की आवाज़ (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

कांग्रेस की सोच विकास विरोधी, बाड़मेर में बोले पीएम मोदी*मुंबई: 2019 अंडरवर्ल्ड जबरन वसूली कॉल मामले में दाऊद के भतीजे सहित 3 बरी*कौन क्या खा रहा इस पर राजनीति हो रही है: RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी*कोयंबटूर: चुनाव प्रचार के दौरान NDA-INDIA ब्लॉक के कार्यकर्ताओं में झड़प, सात घायल*बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट के आरोपियों को हमने 2 घंटे में गिरफ्तार कर लिया: ममता बनर्जी*मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर हिडमा की तलाश में जुटी IB और NIA टीम*'इस बार यूपी की सभी 80 लोकसभा सीट जीतेंगे', मुरादाबाद में बोले अमित शाह*मनीष सिसोदिया ने अदालत में लगाई अर्जी, चुनाव प्रचार के लिए मांगी अंतरिम जमानत || [Nation Watch - Magazine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Friday, July 6, 2018

लखनऊ :अपर प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा डॉ. प्रभात कुमार ने बैठक में एससीईआरटी के निदेशक संजय सिन्हा से पूछा कि सरकारी प्राइमरी स्कूल निजी से बेहतर क्यों नहीं है


लखनऊ :अपर प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा डॉ. प्रभात कुमार ने बैठक में एससीईआरटी के निदेशक संजय सिन्हा से पूछा कि सरकारी प्राइमरी स्कूल निजी से बेहतर क्यों नहीं है? हमारे टीचर, निजी स्कूलों के टीचर जैसे स्मार्ट क्यों नहीं दिखते? इस संबंध में फील्ड के अफसरों से बात कर 15 दिन में रिपोर्ट दें कि क्या किया जाए कि हमारे स्कूलों का स्तर बेहतर हो। डॉ. कुमार ने कहा कि हम क्यों नहीं आह्वान करते कि सक्षम व्यक्ति अपने बच्चों की ड्रेस खुद खरीदें। मदद के लिए विभिन्न संस्थाएं आगे आएं। एक सवाल पर डॉ. कुमार ने बताया कि वह फील्ड में भी निकलेंगे। औचक निरीक्षण कर विभिन्न योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण, स्कूलों में टीचर की उपस्थिति और मिड डे मील की स्थिति का भी जायजा लेंगे तेज-तर्रार वरिष्ठ आईएएस अफसर डॉ. प्रभात कुमार ने गुरुवार को कृषि उत्पादन आयुक्त (एपीसी) सहित बेसिक शिक्षा के अपर मुख्य सचिव पद का दायित्व संभालते ही विभागीय अफसरों से दो टूक कहा कि या तो वे अब ठीक से नौकरी करें या फिर इस्तीफा दे दें। निचले स्तर तक काम में किसी तरह की हीला-हवाली और गड़बड़ी को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। दोषियों के खिलाफ निलंबन, बर्खास्तगी ही नहीं बल्कि गंभीर मामलों में जेल भेजने जैसी कड़ी कार्रवाई भी की जाएगी। मेरठ के मंडलायुक्त पद से पिछले दिनों स्थानांतरित 1985 बैच के आईएएस डॉ. प्रभात कुमार ने गुरुवार को सुबह कार्यभार संभालने के बाद संबंधित विभागीय अफसरों के साथ बैठक की। भ्रष्टाचारियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाने वाले डॉ. कुमार ने दोपहर बाद बेसिक शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अफसरों की क्लास लगाई। उन्होंने सभी से स्पष्ट तौर पर कहा कि वे बिना किसी दबाव में आए ईमानदारी व पूरी निष्ठा के साथ नियमानुसार काम करें। अपने व्यक्तित्व को सुधारने की अफसरों को नसीहत देने के साथ ही कहा कि अगर वे ठीक से नौकरी नहीं कर सकते हैं तो इस्तीफा दे दें। खरी-खरी सुनाते हुए डॉ. कुमार ने कहा कि काम में किसी तरह की हीला-हवाली, गड़बड़ी व भ्रष्टाचार पर वह किसी को भी छोड़ने वाले नहीं है। ऐसे अफसरों-कर्मचारियों को सिर्फ नौकरी से ही हाथ धोना नहीं पड़ेगा बल्कि उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराकर जेल भी भेजा जाएगा। डॉ. कुमार ने विभाग के सभी वरिष्ठ अफसरों से कहा कि वह फील्ड में निचले स्तर तक के स्टाफ को भी इससे अवगत करा दें। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के देय व प्रमोशन समय से किए जाएं।

आज की सत्ता न्यूज ब्यूरो लखनऊ अनुज मौर्य

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->