अनुराग ठाकुर ने कहा - संसद में एक भी सांसद नहीं बता पाया कि कृषि कानूनों से किसानों को नुकसान क्या है - NATION WATCH (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

AAP नेता आतिशी और सौरभ भारद्वाज दोपहर 12 बजे करेंगे प्रेस वार्ता*ज्ञानवापी: व्यास तहखाने में जारी रहेगी पूजा-पाठ, इलाहाबाद HC कोर्ट का फैसला*आज भी ED के सामने पेश नहीं होंगे अरविंद केजरीवाल*पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना में TMC पंचायत नेता की गोली मारकर हत्या*पश्चिम बंगाल पुलिस का एक्शन, TMC नेता अजीत मैती गिरफ्तार*PM नरेंद्र मोदी ने पुण्य तिथि पर वीर सावरकर को दी श्रद्धांजलि* [Nation Watch - Magzine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Wednesday, February 10, 2021

अनुराग ठाकुर ने कहा - संसद में एक भी सांसद नहीं बता पाया कि कृषि कानूनों से किसानों को नुकसान क्या है


संसद द्वारा पारित तीनों कृषि कानून के खिलाफ किसान संगठनों की आंदोलन करीब तीन महीने से जारी है। दिल्ली से सटी विभिन्न राज्यों की सीमाओं पर वे लगातार आंदोलन कर रहे हैँ। अब बारी संसद की है, जहां बजट सत्र को लेकर चर्चा जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब दिया। इस दौरान उन्होंने किसान नेताओं से अपील की कि बातचीत के रास्ते अभी भी खुले हैं, आंदोलन को खत्म कर लें। विपक्षी सांसदों ने भी लोकसभा और राज्यसभा में कृषि बिलों और किसान आंदोलन को लेकर अपने-अपने पक्ष रखे।

बुधवार को केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि सदन की चर्चा में एक भी सांसद नहीं बता पाया कि कृषि कानूनों से किसानों को नुकसान कैसे होगा। किसानों से अनुरोध है कि इनकी बातों से भ्रमित न हों। किसानों को समझने की जरूरत है कि जब कहा गया था कि उनका मंच राजनीतिक दलों के लिए नहीं है तो यह बदलाव कैसे आया।


इससे पहले संसद में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा था कि लोग तीनों कानूनों को काला कहते हैं, लेकिन अभी तक यह बात नहीं बता पाए हैं कि इनमें काला क्या है। उन्होंने कहा कि लगभग हर बैठक में किसान नेताओं से कृषि बिलों की गड़बड़ी के बारे में पूछा गया, लेकिन वे बस तीनों कानूनों की वापसी की मांग पर अड़े रहे।

आपको बता दें कि कृषि बिलों के खिलाफ किसान संगठनों द्वारा गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर परेड भी निकाली गई, जो कि हिंसक प्रदर्शन की भेंट चढ़ गई। इस दिन प्रदर्शनकारियों ने लाल किले पर जमकर हिंसक घटना को अंजाम दिया। न सिर्फ लाल किले के प्राचीर से किसान संठन और धार्मिक झंडे फहराए गए, बल्कि दिल्ली पुलिस के जवानों को चोट भी पहुंचाई गई। इसके बाद से कई संगठनों ने खुद को इससे अलग कर लिया।

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->