नहीं होगा दर्ज पुतिन परकोई मुकदमा - NATION WATCH (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

AAP नेता आतिशी और सौरभ भारद्वाज दोपहर 12 बजे करेंगे प्रेस वार्ता*ज्ञानवापी: व्यास तहखाने में जारी रहेगी पूजा-पाठ, इलाहाबाद HC कोर्ट का फैसला*आज भी ED के सामने पेश नहीं होंगे अरविंद केजरीवाल*पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना में TMC पंचायत नेता की गोली मारकर हत्या*पश्चिम बंगाल पुलिस का एक्शन, TMC नेता अजीत मैती गिरफ्तार*PM नरेंद्र मोदी ने पुण्य तिथि पर वीर सावरकर को दी श्रद्धांजलि* [Nation Watch - Magzine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Wednesday, December 23, 2020

नहीं होगा दर्ज पुतिन परकोई मुकदमा



रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने मंगलवार को ऐसे कानून को पारित कर दिया जिससे वह कानून के ऊपर हो जाएंगे। यह बिल देश के राष्ट्रपतियों को पद से हटने के बाद भी आजीवन आपराधिक मामलों से बचाएगा। नए कानून के तहत रूस के पूर्व राष्ट्रपतिओं के साथ ही उनके परिवार के लोग भी पुलिस जांच और पूछताछ के दायरे में नहीं रहेंगे। कानून के जरिए अब राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद भी वह शख्स आजीवन सीनेटर रहेगा और उसे हर तरह के आपराधिक मामले से प्रतिरक्षा हासिल होगी।

नया कानून पूर्व राष्ट्रपतियों और उनके परिवारों से पुलिस या जांचकर्ताओं की पूछताछ, तलाशी या गिरफ्तारी सबसे छूट देता है। यह कानून इसी साल गर्मियों में जनमत संग्रह के बाद हुए उस संविधान संशोधन का हिस्सा है जिसके तहत पुतिन साल 2036 तक देश तक राष्ट्रपति बने रह सकते हैं। इस कानून से पहले पूर्व राष्ट्रपतियों को उन आपराधिक मामलों से छूट थी जो उनके कार्यकाल के दौरान दर्ज किए गए हों। बता दें कि पुतिन पुतिन साल 2000 से ही रूस की सत्ता में हैं।

हालांकि, नए कानून के तहत देशद्रोह या अन्य गंभीर अपराधों के आरोपों और उच्चतम और संवैधानिक अदालतों द्वारा आरोपों की पुष्टि होने पर एक पूर्व राष्ट्रपति को मिली यह प्रतिरक्षा छिन सकती है लेकिन इसकी प्रक्रिया काफी जटिल बना दी गई है। 

मंगलवार को पुतिन ने जिस बिल पर हस्ताक्षर किए हैं वह पूर्व राष्ट्रपतियों को फेडरेशन काउंसिल या सीनेट में आजीवन सदस्यता देता है, यानी एक ऐसा पद जो राष्ट्रपति पद से हटने के बाद भी मुकदमों से छूट देगा।

बीते महीने इस बिल के लंबित होने की वजह से यह कयास लगाए जा रहे थे कि खराब स्वास्थ्य के कारण पुतिन इस्तीफा दे सकते हैं। हालांकि, इन कयासों को क्रेमलिन ने बेबुनियाद बताया था।

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->