आज की सत्ता - देश में एक गलत सोच - अब्दुल हमीद - NATION WATCH - बदलते भारत की आवाज़ (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

कांग्रेस की सोच विकास विरोधी, बाड़मेर में बोले पीएम मोदी*मुंबई: 2019 अंडरवर्ल्ड जबरन वसूली कॉल मामले में दाऊद के भतीजे सहित 3 बरी*कौन क्या खा रहा इस पर राजनीति हो रही है: RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी*कोयंबटूर: चुनाव प्रचार के दौरान NDA-INDIA ब्लॉक के कार्यकर्ताओं में झड़प, सात घायल*बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट के आरोपियों को हमने 2 घंटे में गिरफ्तार कर लिया: ममता बनर्जी*मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर हिडमा की तलाश में जुटी IB और NIA टीम*'इस बार यूपी की सभी 80 लोकसभा सीट जीतेंगे', मुरादाबाद में बोले अमित शाह*मनीष सिसोदिया ने अदालत में लगाई अर्जी, चुनाव प्रचार के लिए मांगी अंतरिम जमानत || [Nation Watch - Magazine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Friday, July 6, 2018

आज की सत्ता - देश में एक गलत सोच - अब्दुल हमीद


आज की सत्ता -
विश्व मानव अधिकार परिषद के  मध्य प्रदेश अध्यक्ष श्री अब्दुल हमीद जी ने एक मीडिया को प्रेस नोट में बताया आगे उनका प्रेस नोट का लेख । प्रिय दोस्तों ना जाने कितनी रातो को मैने जागकर काटा है एक बोझ सा हरपल में महसूस करता हु एक अजीब सी घुटन है मेरे दिल में जिसे में आप  सभी तक पहुँचा रहा हु उम्मीद है की आप इस गलत सोच पर जरूर बिचार करेगे ।
आज हमारे देश में हर धर्म जाती के लोग इस गलत सोच की पकड़ में है में धर्म और जाती के विपरीत नही हु नाही किसी भी बिभाग बा कर्मचारी का बिरोधी हु आज समाज में हर जाति धर्म के लोगो की यही सोच बन चुकी है की कुछ भी कर लो बस पैसा वा नाम ही जिन्दगी का मकसद व् लक्छ है चाहे उसके लिये करप्शन लूट घूसखोरी हत्या बलात्कार धोका देना और लोगो को शर्मसार करना एक आम बात है ऐसा हमारे देश में कोई विभाग नही होगा नाही किसी जाति धर्म का कानून जिस जाति धर्म में इन चीजो को गुनाह अधर्म ना समझा जाता हो पर हम सब लोग अपने जमीर को टटोल कर तो देखे आज हमारी आँखों के सामने किया किया नही होता और हम सबने एक गलत सोच बना रखी है की ये काम मेरा नही दूसरे विभागों का है उदहारण आज कोई हमारी आँखों के सामने एक्सिडेंट होता है कोई हमारे और आप के सामने तड़पता रहिता है और दम तोड़ देता है और हम यही सोचते है की पुलिस आयेगी हमे किया करना है अगर हम इन्सान है तो हमारे अन्दर इंसानियत भी होना जरूरी है राम चरित्र मानस की चोपाई भी कहती है की परहित सरस धर्म नही भाई पर पीड़ा सम नही अदमाई अगर हम सब में थोडी सी इंसानियत अपने अन्दर पैदा हो जाये तो कभी भी मानव अधिकार का हह्न नही होगा अगर प्रशाशन चाहे और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी इंसानियत का थोड़ा सा भी हक अदा करने पर आ जाये तो आने बाली पीडी आशानी से इस नसे की पकड़ से बच सकती है अगर देश के कुछ लोगो के अंदर वेबा यतीम बिकलांग और गरीबो से मोहब्बत हो जाये अगर हम सब मिलकर किसी भी बच्चे को काम से हटाकर इस्कुल भेजने की चिन्ता कर ले ये ना सोचे की यह बच्चा किसका है बस हमारे दिल में यह सोच हो की यह इन्सान है आज 60 परसेन्ट बच्चे आशिचित है हमारी एक गलत सोच की बजय है की ये काम मेरा नही किसी और का है कई बच्चे होटल पर बर्तन माँजते है हमने अपने देश के भाबिषय का कितना बड़ा नुकसान किया है हमे सायद इसका अंदाजा भी नही है हम सब मिलकर सारे अच्छे कामो को अपनी जिमेदारी बना ले और हर बुराई का बिरोध करने बाले बन जाये।
जय हिन्द  जय भारत
राजेन्द्र भगत  सह -संपादक जम्बू कश्मीर 

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->