सिद्धार्थनगर - विचार क्रांति ज्ञान यज्ञ अभियान के तहत 364वां वांग्‍मय साहित्य की, कि गई स्थापना - NATION WATCH - बदलते भारत की आवाज़ (MAGZINE)

Latest

Advertise With Us:

Advertise With Us:
NationWatch.in

Search This Blog

Breaking News

यूपी बोर्ड में 10वीं में 89.55% और 12वीं में 82.60% स्टूडेंट्स हुए पास*'हम अग्निवीर योजना को खत्म कर देंगे...', बिहार के भागलपुर में बोले राहुल गांधी*PM नरेंद्र मोदी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- कांग्रेस के शहजादे को वायनाड में भी संकट दिख है*नरेंद्र मोदी का सोनिया गांधी पर तंज, बोले- 'विपक्षी लोग चुनाव लड़ने को तैयार नहीं है'*'ज्यादा मतदान लोकतंत्र की ताकत', नांदेड़ में बोले पीएम नरेंद्र मोदी*प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के नांदेड़ में जनसभा को किया संबोधित*असम 10वीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम घोषित, 75.7% विद्यार्थी हुए पास*दिल्ली: राष्ट्रीय प्रवक्ता जयवीर शेरगिल के साथ बीजेपी कार्यालय पहुंचे तेजिंदर सिंह बिट्टू*MP: भोपाल में कई कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ज्वाइन की BJP*AAP नेता सिसोदिया की जमानत याचिका पर राउज एवेन्यू कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला*ओडिशा नाव हादसा: रेस्क्यू टीम ने बरामद किए 6 और शव, मरने वालों की संख्या हुई सात*पंजाब में कांग्रेस को बड़ा झटका, तेजिंदर सिंह बिट्टू कांग्रेस छोड़ थामेंगे BJP का दामन*एलन मस्क का भारत दौरा फिलहाल टला, 21-22 अप्रैल को आने वाले थे टेस्ला के सीईओ || [Nation Watch - Magazine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Friday, June 24, 2022

सिद्धार्थनगर - विचार क्रांति ज्ञान यज्ञ अभियान के तहत 364वां वांग्‍मय साहित्य की, कि गई स्थापना










संतोष कौशल




*सद्ज्ञान व्यक्ति को नर से नारायण बना सकता है - उमानंद शर्मा*





सिद्धार्थनगर । सद्ज्ञान व्यक्ति को नर से नारायण बना सकता है यह बाते वांग्मय स्थापना अभियान गायत्री परिवार लखनऊ के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने वांग्मय साहित्य पर प्रकाश डालते हुए कही । 

सोमवार को गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर लखनऊ के द्वारा चलाई जा रही विचार क्रांति ज्ञान यज्ञ अभियान के तहत  बाबू सुंदर सिंह कालेज ऑफ फार्मेसी रायबरेली रोड निगोहा लखनऊ के पुस्तकालय में गायत्री परिवार के संस्थापक युग ऋषि पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खंडों का 364वा साहित्य की स्थापना कार्यक्रम में उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए उमानन्द शर्मा ने कहा कि सद्ज्ञान व्यक्ति को नर से नारायण बना सकता है। महापुरुष की वाणी उनके लिखे गए साहित्य में सद्ज्ञान की प्राप्ति होती है। यह साहित्य युग ऋषि द्वारा रचित सम्पूर्ण वांग्मय है।




79 खंडों का 364वा वांग्मय साहित्य गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्टीय सदस्य श्रीहंस जी ने अपने सम्मानित पूर्वजो की स्मृति में भेंट किया है। इस दौरान एस. डी. मिश्रा द्वारा सभी छात्र - छात्राओं को *सफल जीवन की दिशा धारा* नामक पॉकेट बुक भेंट की गई। 

इस अवसर पर संस्था के चेयरमैन इंजीनियर आनंद शेखर सिंह व एस. डी. मिश्रा ने भी अपने - अपने विचार व्यक्ति किए। संस्थान के निर्देशक डा. आलोक कुमार शुक्ला ने धन्यवाद ज्ञापन व्यक्त कर कार्यक्रम का समापन किया।



इस मौके पर श्रीमती उषा सिंह सहित कॉलेज के सभी छात्र छात्राएं व शिक्षक शिक्षिकाएं मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

AD

Prime Minister Narendra Modi at the National Creators' Awards, New Delhi

NATION WATCH -->