क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस? - NATION WATCH (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

राहुल की भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होंगे कमलनाथ* जयपुर: झोटवाड़ा इलाके में PNB बैंक में फायरिंग, बैंक मैनेजर घायल* हरियाणा के किसानों का फसली लोन पर ब्याज और जुर्माना माफ- CM खट्टर* कांग्रेस के युवराज ने काशी के युवाओं को नशेड़ी कहा- पीएम मोदी ने राहुल पर साधा निशाना* मोदी की गारंटी, मतलब काम पूरा होने की गारंटी: वाराणसी में बोले PM*समाजवादी पार्टी के बाहुबली नेता उदय भान सिंह की जमानत याचिका पर SC में 5 अप्रैल को सुनवाई*वाराणसी दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी ने किया रोड शो, सीएम योगी भी रहे साथ*बिहार विधान परिषद की 11 सीटों के लिए 21 मार्च को चुनाव*जयपुर: सवाई मानसिंह अस्पताल में शख्स को चढ़ाया गलत ग्रुप का ब्लड, मौत*पश्चिम बंगाल: फरार शाहजहां शेख के खिलाफ सड़कों पर उतरा पूरा गांव* [Nation Watch - Magzine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Friday, December 11, 2020

क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस?

 


हर साल 11 दिसंबर को पूरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस (International Mountain Day) मनाया जाता है.

इस दिन का उद्देश्य पहाड़ों के संरक्षण और इसकी समृद्ध जैव विविधता के बारे में जागरुकता बढ़ाना है.

बर्फ से ढके हिमालय से लेकर हरे-भरे पहाड़ों तक, हर पहाड़ अपने तरीके से खास है और विभिन्न पशु, पक्षियों का घर है.

संयुक्त राष्ट्र की वेबसाइट के अनुसार, पहाड़ दुनिया की आबादी का 15% हिस्सा हैं और दुनिया की जैव विविधता के आकर्षण के केंद्र के आधे हिस्से की मेजबानी करते हैं.

इस वर्ष के अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस का विषय "पर्वतीय जैव विविधता" है.

*अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस का इतिहास*
अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस का गठन 1992 में तब हुआ जब एजेंडा 21 के अध्याय 13 के "प्रबंधनीय पारिस्थितिक तंत्र: सतत पर्वत विकास" को पर्यावरण और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में अपनाया गया.

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 2002 को संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय पर्वत वर्ष घोषित किया और 11 दिसंबर को 2003 से अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस के रूप में नामित किया.

पहली बार अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस 11 दिसंबर 2003 को मनाया गया था. तबसे हर साल यह एक विशेष विषय के साथ मनाया जाता है.

*अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस का महत्व*
यह समृद्ध जैव विविधता और प्राकृतिक परिदृश्य को बचाने के लिए जागरूकता का आह्वान करता है.

आबादी और जैव विविधता के अलावा पर्वत मानवता के आधे हिस्से को रोजमर्रा की जिंदगी के लिए ताजा पानी भी प्रदान करते हैं.

जलवायु परिवर्तन से पहाड़ पर बसने वाले लोगों का बचना मुश्किल हो गया है. बढ़ते तापमान ने भी पर्वतीय ग्लेशियरों को अभूतपूर्व दरों पर पिघला दिया है जिससे लाखों लोगों के ताजे पानी की आपूर्ति प्रभावित हुई है.

वैश्विक स्तर पर ये समस्याएं लगभग सभी को प्रभावित कर रही हैं. इस प्रकार इन प्राकृतिक धरोहरों की देखभाल करना बहुत जरूरी है.

बता दें, हाल ही में ये ऐलान किया गया था कि माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई पिछले बार के मुकाबले 86 सेंटीमीटर बढ़ गई है. जिसका ऐलान चीन और नेपाल ने संयुक्त रुप से किया है. अब माउंट एवरेस्ट की नई ऊंचाई 8848. 86 मीटर है

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->