लखनऊ : परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में छात्र-शिक्षक अनुपात में शिक्षामित्रों को बेसिक शिक्षा विभाग ने शामिल नहीं किया। - NATION WATCH - बदलते भारत की आवाज़ (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

कांग्रेस की सोच विकास विरोधी, बाड़मेर में बोले पीएम मोदी*मुंबई: 2019 अंडरवर्ल्ड जबरन वसूली कॉल मामले में दाऊद के भतीजे सहित 3 बरी*कौन क्या खा रहा इस पर राजनीति हो रही है: RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी*कोयंबटूर: चुनाव प्रचार के दौरान NDA-INDIA ब्लॉक के कार्यकर्ताओं में झड़प, सात घायल*बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट के आरोपियों को हमने 2 घंटे में गिरफ्तार कर लिया: ममता बनर्जी*मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर हिडमा की तलाश में जुटी IB और NIA टीम*'इस बार यूपी की सभी 80 लोकसभा सीट जीतेंगे', मुरादाबाद में बोले अमित शाह*मनीष सिसोदिया ने अदालत में लगाई अर्जी, चुनाव प्रचार के लिए मांगी अंतरिम जमानत || [Nation Watch - Magazine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Saturday, July 21, 2018

लखनऊ : परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में छात्र-शिक्षक अनुपात में शिक्षामित्रों को बेसिक शिक्षा विभाग ने शामिल नहीं किया।




लखनऊ : प्राथमिक स्कूलों में  शिक्षामित्रों को बेसिक शिक्षा विभाग ने छात्र-शिक्षक अनुपात में शिक्षा मित्रों को शामिल नहीं किया है। मानदेय भी इन्हे नियमित रूप से नहीं मिलता है। सरकार द्वारा मूल स्कूलों में भेजने के फैसले को शिक्षा मित्र सकारात्मक कदम मानकर चल रहे हैं। वर्ष-2001 में सर्व शिक्षा अभियान के आगाज के साथ ही कई चरणों में ग्रामीण एव नगरीय क्षेत्र के स्कूलों में मानदेय के आधार पर शिक्षा मित्रों की नियुक्ति हुई थी। उत्तर प्रदेश के जिले में 147567  कार्यरत शिक्षा मित्रों को 10 हजार मासिक मानदेय मिल रहा है। सपा शासनकाल के दौरान शिक्षा मित्रों को प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक पदों पर समायोजित किया गया था। गत एक दशक से शिक्षा मित्र संघर्ष कर रहे थे। लेकिन हाईकोर्ट व सुप्रीम कोर्ट के द्वारा उनके समायोजन को अमान्य कर दिए जाने के फैसले से उन्हें वर्ष-2017 में शिक्षा मित्र के पद पर वापिस लौटना पड़ा था।

बेसिक शिक्षा विभाग के द्वारा परिषदीय स्कूलों में केवल नियमित शिक्षकों को ही छात्र-शिक्षक अनुपात की श्रेणी में शामिल किया गया है 121063 शिक्षामित्रो का समायोजन हो गया था। समायोजन रद होने के बाद शिक्षामित्र मूल पद पर वापस आ चुके हैं। लोकसभा चुनाव से पहले उनकी नाराजगी दूर करने के लिए सरकार ने शिक्षामित्रों को उनके मूल स्कूलों में भेजने का निर्णय लिया है।

 शिक्षामित्रों को नियमित रूप से मानदेय न मिलने के कारण कई बार उनके समक्ष परिवार के भरण-पोषण की समस्या गहरा जाती है। अप्रैल मई का मानदेय  जुलाई माह में भेजा जा चुका है।  मूल स्कूलों में भेजने के लिए शिक्षामित्रों से विकल्प लिए जायेगे। हालांकि इस बारे में अभी तक बेसिक शिक्षा विभाग से कोई गाइड लाइन नहीं जारी हुई है।

बेसिक शिक्षा विभाग के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया की स्कूलों में छात्र-शिक्षक अनुपात में केवल नियमित शिक्षकों एव फिक्स वेतन के आधार पर नियुक्त शिक्षको की गणना ही की जाती है। मानदेय के आधार पर नियुक्त होने के कारण शिक्षामित्र इस प्रक्रिया से बाहर हैं।

देवेन्द्र प्रताप सिंह कुशवाहा

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->