- NATION WATCH (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

राहुल की भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होंगे कमलनाथ* जयपुर: झोटवाड़ा इलाके में PNB बैंक में फायरिंग, बैंक मैनेजर घायल* हरियाणा के किसानों का फसली लोन पर ब्याज और जुर्माना माफ- CM खट्टर* कांग्रेस के युवराज ने काशी के युवाओं को नशेड़ी कहा- पीएम मोदी ने राहुल पर साधा निशाना* मोदी की गारंटी, मतलब काम पूरा होने की गारंटी: वाराणसी में बोले PM*समाजवादी पार्टी के बाहुबली नेता उदय भान सिंह की जमानत याचिका पर SC में 5 अप्रैल को सुनवाई*वाराणसी दौरे पर प्रधानमंत्री मोदी ने किया रोड शो, सीएम योगी भी रहे साथ*बिहार विधान परिषद की 11 सीटों के लिए 21 मार्च को चुनाव*जयपुर: सवाई मानसिंह अस्पताल में शख्स को चढ़ाया गलत ग्रुप का ब्लड, मौत*पश्चिम बंगाल: फरार शाहजहां शेख के खिलाफ सड़कों पर उतरा पूरा गांव* [Nation Watch - Magzine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Monday, July 2, 2018

ढाई साल से मदरसा शिक्षकों को नहीं मिला मानदेय


-जिले के 231 शिक्षकों को मानदेय देने के लिए चाहिए साढ़े सात करोड़
देवरिया

मदरसों में तैनात आधुनिक शिक्षकों को ढाई साल से मानदेय नहीं मिला है। मानदेय नहीं मिलने से शिक्षक जेवर गिरवी रख कर खर्च चलाने को मजबूर हैं। आर्थिक तंगी में जी रहे जिले के 231 मदरसा शिक्षकों का बकाया मानदेय भुगतान के लिए साढ़े सात करोड़ रुपए चाहिए।

मदरसों में दीनी तालीम के साथ हिन्दी, गणित, विज्ञान सामाजिक विषय और कम्प्यूटर आदि विषय को पढ़ाने के लिए पोस्ट ग्रेजुएट और ग्रेजुएट शिक्षक नियुक्त किए गए। जनपद में पंजीकृत 89 मदरसों में 231 शिक्षकों को दुनियावी तालीम देने का जिम्मा सौंपा गया। पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षकों को केन्द्रांश और राज्यांश मिलकर 15 हजार और ग्रेजुएट 8 हजार रुपए मानदेय देने की व्यवस्था की गई। वर्ष 2015 के अंत तक तो सब कुछ ठीक ठाक चलता रहा लेकिन इसके बाद से केन्द्रांश का आना बंद हो गया। प्रदेश सरकार से भी वर्ष 2017 तक राज्यांश मिला। अब छह महीने से वो भी बंद पड़ा है। एहसानुल्लाह सिद्दिकी कहते हैं कि पिछले एक वर्ष से केन्द्रांश आने की बात कही जा रही है लेकिन आखिर में नतीजा सिफर ही निकलता है। मो जिकरुल्लाह मंसूरी कहते हैं कि ढाई साल से मानदेय नहीं मिलने से उधारी मिलना भी बंद हो गया है। अब तो जेवर गिरवी रख खर्च चलाने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है। राजन कुमार कहते हैं कि मानदेय नहीं मिलने से तंगहाली ने जिंदगी की रफ्तार धीमी कर दी है। किसी तरह उधार व्यवहार लेकर गाड़ी आगे बढ़ाई जा रही है।
कोट

मदरसा के आधुनिक शिक्षकों के मानदेय के लिए सरकार को डिमांड भेज दिया गया है। धनराशि मिलते ही शिक्षकों के खाते में भेज दी जाएगी।
नीरज कुमार अग्रवाल, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->