10वीं में 98% और 12वीं में 94% नंबर लाने वाली लड़की ने खुदकुशी कर ली - NATION WATCH (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

AAP नेता आतिशी और सौरभ भारद्वाज दोपहर 12 बजे करेंगे प्रेस वार्ता*ज्ञानवापी: व्यास तहखाने में जारी रहेगी पूजा-पाठ, इलाहाबाद HC कोर्ट का फैसला*आज भी ED के सामने पेश नहीं होंगे अरविंद केजरीवाल*पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना में TMC पंचायत नेता की गोली मारकर हत्या*पश्चिम बंगाल पुलिस का एक्शन, TMC नेता अजीत मैती गिरफ्तार*PM नरेंद्र मोदी ने पुण्य तिथि पर वीर सावरकर को दी श्रद्धांजलि* [Nation Watch - Magzine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Wednesday, June 6, 2018

10वीं में 98% और 12वीं में 94% नंबर लाने वाली लड़की ने खुदकुशी कर ली


एस प्रदीपा. ये उसका नाम था. 17 साल की लड़की थी. पढ़ने में बहुत अच्छी. 10वीं में 98 फीसद नंबर लाई. इन्हीं नंबरों की बदौलत एक प्राइवेट स्कूल ने उसे स्कॉलरशिप दी. अपने यहां दाखिला देकर 11वीं और 12वीं की उसकी पढ़ाई का पूरा खर्च उठाया. 12वीं में भी उसके 93.75 पर्सेंट नंबर आए. फिर उसने आत्महत्या कर ली. क्यों? क्योंकि वो NEET नहीं निकाल पाई. पिछले साल और फिर इस साल, दोनों ही साल वो NEET में फेल हो गई. NEET माने नैशनल ऐलिजबिलिटी टेस्ट. 4 जून, 2018 को NEET का रिजल्ट आया. इसी दिन शाम को उसने चूहे मारने वाला जहर पीकर अपनी जान दे दी. NEET की परीक्षा जब से शुरू हुई, तब से ही विवादित है. रीजनल बोर्ड वालों का कहना है कि परीक्षा का सिस्टम ही ऐसा है कि वो पिछड़ जाते हैं.


(ये प्रदीपा का घर है. प्रदीपा के पिता राजमिस्त्री हैं. प्रदीपा की बड़ी बहन ने MSC किया है. उसका भाई इंजिनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है)

पिता राजमिस्त्री, बच्चों को पढ़ाने की बहुत फिक्र की उन्होंने
तमिलनाडु का तिरुवन्नामलाइ. यहीं के एक दलित परिवार की बेटी थी प्रदीपा. 10वीं तक तमिल-मीडियम वाले सरकारी स्कूल में पढ़ती थी. प्रदीपा के पिता राजमिस्त्री का काम करते हैं. बच्चों को पढ़ाने-लिखाने की काफी फिक्र की उन्होंने. उनकी बड़ी बेटी ने MSC की. बेटा इंजिनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है. प्रदीपा डॉक्टर बनना चाहती थी. लेकिन औरों की जान बचाने की सोचने वाली लड़की ने खुद की ही जान ले ली. 2017 में भी तमिलनाडु की एक लड़की ने ऐसे ही खुदकुशी की थी. उसका नाम अनीता था. कई छात्र इल्जाम लगाते हैं कि NEET की परीक्षा में गैर-हिंदी भाषी स्टूडेंट्स को दिक्कत आती है. अनीता के साथ कुछ और छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका डाली थी. उनका कहना था कि NEET का सिस्टम ही ऐसा है कि सेंट्रल बोर्ड से पढ़ने वाले बच्चों को पास होने में मदद मिलती है. बाकियों के लिए टेस्ट निकालना मुश्किल हो जाता है.


सचिन श्रीवास्तव, लखनऊ 

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->