【श्रावण मास के द्वितीय सोमवार को जनपद के सभी शिवालयों में उमडी श्रद्धालुओं की भीड़ 】AAJ KI SATTA - NATION WATCH - बदलते भारत की आवाज़ (MAGZINE) (UPHIN-48906)

Latest

Breaking News

कांग्रेस की सोच विकास विरोधी, बाड़मेर में बोले पीएम मोदी*मुंबई: 2019 अंडरवर्ल्ड जबरन वसूली कॉल मामले में दाऊद के भतीजे सहित 3 बरी*कौन क्या खा रहा इस पर राजनीति हो रही है: RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी*कोयंबटूर: चुनाव प्रचार के दौरान NDA-INDIA ब्लॉक के कार्यकर्ताओं में झड़प, सात घायल*बेंगलुरु कैफे ब्लास्ट के आरोपियों को हमने 2 घंटे में गिरफ्तार कर लिया: ममता बनर्जी*मोस्ट वांटेड नक्सली कमांडर हिडमा की तलाश में जुटी IB और NIA टीम*'इस बार यूपी की सभी 80 लोकसभा सीट जीतेंगे', मुरादाबाद में बोले अमित शाह*मनीष सिसोदिया ने अदालत में लगाई अर्जी, चुनाव प्रचार के लिए मांगी अंतरिम जमानत || [Nation Watch - Magazine - Title Code - UPHIND-48906]

Nation Watch


Monday, August 6, 2018

【श्रावण मास के द्वितीय सोमवार को जनपद के सभी शिवालयों में उमडी श्रद्धालुओं की भीड़ 】AAJ KI SATTA

कन्नौज से विमलेश कुशवाहा की खास रिपोर्ट


नदसिया स्थित बाबा नागेश्वर नाथ शिव मन्दिर सावन के दूसरे सोमवार को ऊं नमःशिवाय की आवाज से गूंज उठा। इस मंदिर का ‘प्राकृतिक’ शिव लिंग प्रमुख आकर्षण है।आप को बतादे की मन्दिर की सौंदर्यता श्रावण मास में स्वर्ग के समान हो जाती है ! इतना ही नही मन्दिर के गुम्बद पर लगा गगन चुम्बी कलश व त्रशूल प्रातः कालीन बेला में सूर्य की पहली किरण पडते ही स्वर्ण के समान दमक उठता है। पूर्वजों की माने तो मंन्दिर में अति प्राचीन स्थापित शिव लिंग काशी विश्व नाथ की शिव लिंग से मैच करती है। चूना एवं डाट अथवा ककहिया ईट से निर्मित बाबा नागेश्वर नाथ का शिव मंन्दिर राजा रियासत व प्राचीन कला कौशल को दर्शाता है । मंन्दिर के बाहरी एवं अन्दर की दीवारो पर बनी आकृतिया आज भी अपनी प्राचीनता को तरोताजा करती है। मन्दिर में भगवान शिव की पूजा आराधना करने बाले संतों के मुताविक मन्दिर तकरीवन 500 सौ बर्ष से भी पुराना बताया जा रहा है ।साथ ही संतो की माने तो श्रावण मास एवं नाग पचमी को मंदिर के चारो तरफ काले नाग का अदृष्य पहरा रहता है। जो जब कभी दिखाई पडता है मंदिर के मुख्य द्वार के सम्मुख बना विशाल काय चहुमुखी यज्ञ शाला व मंन्दिर परिषर में लगी फुलबारी अतिशोभायमान प्रतीत होती है। इस चहुमुखी यज्ञशाला में हवन पूजन आदि के लिए जगत गुरु शंकराचार्य ,करपात्री जी महाराज जैसे महान सतों ने प्रतिभाग किया था । मंदिर का मुख्य जुणाव जीटी रोड से सात किलो मीटर तिर्वा रोड पर है इसके समीप बसे मुख्य नगर एवं शहर कन्नौज ,जलालाबाद ,जसोदा ,गुरसहायगंज ,छिबरामऊ ,तालग्राम ब तिर्बा है।

No comments:

Post a Comment

If you have any type of news you can contact us.

NATION WATCH -->